Wednesday, June 2, 2010

अभी तलक भी घुली हुई हैं

तुम्हारी नजरें जहाँ गिरी थीं, कपोल पर से मेरे फिसल कर


हमारी परछाईयां उस जगह में अभी तलक भी घुली हुई हैं



हुई थी रंगत बदाम वाली हवा की भीगी टहनियों की

सजा के टेसू के रंग पांखुर पर, हँस पड़ी थी खिली चमेली

महकने निशिगंध लग गई थी, पकड़ के संध्या की चूनरी को

औ बीनती थी अधर के चुम्बन कपोल पर से नरम हथेली



जनकपुरी की वह पुष्प वीथि,जहा प्रथम दृष्टि साध होकर

मिली थी, उसकी समूची राहें अभी तलक भी खुली हुई हैं



न तीर नदिया का था न सरगम, औ न ही छाया कदम्ब वाल

न टेर गूंजी थी पी कहाँ की, न सावनों ने भिगोया आकर

मगर खुले रह गये अधर की जो कोर पर था रहा थिरकता

वही सुलगता सा मौन जाने क्या क्या सुनाता है अब भी गाकर



न जाने क्यों इस अनूठे पल में, उमड़ती घिरती हैं याद आकर

मुझे पकड़ कर अतीत में ले जायेंगी इस पर तुली हुई हैं



वो मोड़ जिस पर गुजरते अपने कदम अचानक ही आ मिले थे

वो मोड़ जिस पर सँवर गई थी शपथ के जल से भरी अंजरिया

उसी पे उगने लगीं हैं सपनों की जगमगाती हजार कोंपल

लगी उमड़ने बैसाख में आ भरी सुधा की नई बदरिया



ढुलक गई नभ में ईंडुरी से जो इक कलसिया,उसी से गिर कर

जो बूँद मुझको भिगो रही हैं वो प्रीत ही में धुली हुई हैं

5 comments:

  1. गहरे भावों से भरी हुई, आगे भी लिखते रहिएगा
    Learn By Watch Blog

    ReplyDelete
  2. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete
  3. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  4. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete